शुक्रवार के दिन पैदाइश और शुक्रवार के दिन मरना सबको नसीब नहीं होता

By: Khabre Aaj Bhi
Oct 31, 2020
227


By : जावेद बिन अली

गाजीपुर : शुक्रवार के दिन पैदाइश और शुक्रवार के दिन मरना यह चर्चा का विषय बन गया है ।  ज्ञात हो कि राज्य झारखंड बसपा प्रभारी मोहम्मद मसीहहुजमां निवासी सुहवल थाना अंतर्गत ग्राम सभा रमवल के बड़े पुत्र मोहम्मद मोहसिन खान सिविल इंजीनियर उम्र लगभग २८ वर्ष का देहांत हो गया है । जिनकी तबीयत विगत २ वर्षों से खराब चल रही थी । इनका दोनों किडनी खराब हो चुका था । ऑपरेशन के लिए सब कुछ इंतजाम होने के बावजूद कोविड-१९  के कारण दो मर्तबा ऑपरेशन का डेट फिक्स होने के बावजूद ऑपरेशन नहीं हो पाया था। कल  वाराणसी में देहांत हो गया । खास बात यह है बच्चे की पैदाइश २२ अगस्त १९९२ दिन शुक्रवार की रोज हुई थी।

शुक्रवार आज सुबह ६ बजे वालिद मोहतरम को बुलाकर कहा कि पापा अब मैं जा रहा हूँ । हमारी तमाम गलतियों को माफ करेंगे और१  घंटे के अंदर रूह परवाज कर गयी । वाराणसी से लोग गांव के खानदानी कब्रिस्तान में बाद नमाज असर सपूर्द खाक किया गया काफी संख्या में कमसारोबार एवं जनपद के प्रधान एवं सामाजिक कार्यकर्ता उपस्थित थे । इस अवसर पर अभिनेश जयसवाल चेयरमैन नगरपालिका दिलदारनगर, पूर्व ब्लाक प्रमुख धर्मेंद्र सिंह ,ब्लाक प्रमुख धर्मेंद्र गुप्ता ,पूर्व ब्लाक प्रमुख अब्दुल रशीद खान,परवेज अहमद खान,डॉ अशोक सिंह( सिंह हॉस्पिटल )मुख्य रूप से उपस्थित थे। विद्यालय परिवार शम्स मॉडल स्कूल मुर्की खुर्द,मुहम्मदाबाद, गाजीपुर अल्लाह से दुआ करता है।परिवार को सब्र रे जमील अता फरमाएl इस बात की जानकारी प्रिंसिपल राजदा खातून ने दिया हैl एमएच खान ने बताया कि हमारे तीनों बच्चों में यह बच्चा सबसे बड़ा आज्ञाकारी था बिना पूछे कोई काम नहीं करता था । 


Khabre Aaj Bhi

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?