नगर पंचायत मछली शहर में बड़ी धूमधाम से ईदमिलादुन्नबी का जुलूस निकाला गया

By: Khabre Aaj Bhi
Nov 18, 2019
967


 रिपोर्ट: अफसर अली 

जौनपुर : मछली शहर नगर पंचायत में ईद मिलादुन्नबी का जुलूस निकाला गया इस प्रोग्राम को सीरत कमेटी मछली शहर द्वारा ऑर्गेनाइज किया जाता है जिसके सदर मुस्तफिज खान व सेक्रेटरी साजिद इकबाल है वैसे तो ईद मिलादुन्नबी नबी का जुलूस पूरे हिंदुस्तान में 12 रवि अव्वल को निकाला जाता है लेकिन मछली शहर की रवायत रही है यह जुलूस मछली शहर में 19 रवि अव्वल को निकाला जाता है जो कि 1957 से जारी और सारी है इस जुलूस में मछली शहर की सारी अंजुमने शामिल होती हैं जो कि मछली शहर के कजियाना मोहल्ले से शाह अशरफ शाह बाबा की मस्जिद से निकलती है पूरे मछली शहर का भ्रमण करते हुए जामा मस्जिद खानजादा पर खत्म होती है


बारावफ़ात अथवा ईद-ए-मीलाद या 'मीलादुन्नबी' इस्लाम धर्म का प्रमुख त्योहार है इस अवसर पर पैग़म्बर मुहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का जन्म दिवस को याद किया जाता है और उनका शुक्रिया अदा किया जाता है कि वे तमाम आलम के लिए रहमत बनकर आए थे ईद-ए-मीलाद यानी ईदों से बड़ी ईद के दिन, तमाम उलेमा और शायर कसीदा-अल-बुरदा शरीफ़ पढ़ते हैं। इस्लामिक कैलेंडर के मुताबिक पैग़म्बर मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का जन्म रबीउल अव्वल महीने की 12वीं तारीख को हुआ था हालांकि पैग़म्बर मुहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम का जन्मदिन इस्लाम के इतिहास में सबसे अहम दिन है फिर भी न तो पैग़म्बर मोहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने और न ही उनकी अगली पीढ़ी ने इस दिन को मनाया दरअसल, वे सादगी पंसद थे उन्होंने कभी इस बात पर ज़ोर नहीं दिया कि किसी की पैदाइश पर जश्न जैसा माहौल या फिर किसी के इंतक़ाल का मातम मनाया जाए


बारावफ़ात  उद्देश्य

एकेश्वरवाद की शिक्षा दी जाती है कि अल्लाह एक है और पाक बेऐब है उस जैसा कोई नहीं। ईद-ए मीलादुन्नबी को हालांकि बड़े पैमाने पर मनाया जाता है फिर भी मोहम्मद सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम के पैग़ाम को जानने और उस पर अमल करने के लिए इसे ख़ास दिन माना जाता है लोग इस दिन इबादत करते हैं हिन्दुस्तान में भी मीलादुन्नबी उत्साह से मनाया जाता है। 

पुलिस प्रशासन का रोल रहा सराहनीय सिक्योरिटी का इंतजाम रहा बहुत सख्त सीओ मछली शहर विजय सिंह व मछली शहर कोतवाल पंकज पांडे अपनी पूरी पुलिस टीम के साथ पूरे मछली शहर का गस्त करते रहे और सिक्योरिटी का जायजा लेते रहे बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न हुआ ईद मिलादुन्नबी का जुलूस । 


Khabre Aaj Bhi

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?