महागठबंधन सरकार मे लोगों का जीना मुश्किल कामगार भूखमरी के कगार पर: नसीम खान

By: Naval kishor
Oct 05, 2019
84

युति सरकार को उखाड़ फेंको नसीम खान का जोरदार हमला


मुंबई: युति सरकार के शासनकाल में लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। खास कर कामगार और हर रोज मेहनत मजदूरी कर अपनी रोजी रोटी कमाने वाले लोगों के सामने भुखमरी की नौबत आ गई है। यह बात चांदीवली विधानसभा सीट से कांग्रेस उम्मीदवार व मौजूदा विधायक नसीम खान ने कही। वे कुर्ला रोड के सफेद पुल के पास स्थित गोल्डन नेक्स्ट हॉल में महिला कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे । उन्होंने कहा कि पिछले पांच साल में मुंबई समेत पूरे राज्य की हालत बद्दतर हो गई है। कहा जाता है कि मुंबई में कोई शख्स सुबह भूखा उठ सकता है लेकिन भूखा सोता नहीं है,लेकिन युति सरकार में कामगारों को भूखा भी सोना पड़ रहा है।नसीम ने कहा कि पिछले 5 साल में युति सरकार ने अपने किसी वादे को पूरा नहीं किया है।उन्होंने कहा कि जब साल 2013 में वे  टेक्सटाइल मिनिस्टर थे ,तो उन्होंने कोहिनूर मिल की जमीन  डॉ. बाबा साहेब आंबेडकर की स्मारक के लिए  देने का फैसला लिया था । उसके बाद युति सरकार ने भूमि पूजन तो किया, लेकिन स्मारक के लिए एक भी ईट भी नहीं  लगाई।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              युति सरकार को उखाड़ फेंको

नसीम खान ने महिला कार्यकर्ताओं से युति सरकार को उखाड़ कर फेंक देने की अपील की। उन्होंने सभी कार्यकर्ताओं से कांग्रेस के विकास के नारे को हर घर तक पहुंचाने की अपील की है।नसीम ने 21 अक्टूबर को सभी से भारी संख्या में मतदान करने की अपील की है।

रविवार को मुख्य  चुनाव कार्यालय का उद्घाटन 

रविवार को जरी मरी के शमसुद्दीन नगर में नसीम खान  के मुख्य चुनाव कार्यालय का उद्घाटन होगा ।दोपहर 3 बजे नसीम खान गोल्डन नेक्स्ट हॉल में यूथ कांग्रेस के नेताओं से मिलेंगे।



Naval kishor

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?