ब्रायलर मुर्गी में कोरोना वायरस मिलने का दावा निकला झूठा।

By: Rizwan
Feb 12, 2020
558

कोरोना वायरस के कहर के बीच सोशल मीडिया पर मुर्गी और मांस की कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं. तस्वीरों के साथ दावा किया जा रहा है कि ब्रायलर मुर्गी में कोरोना वायरस पाया गया है, इसलिए इसे खाएं.बायलर मुर्ग़ी मेँ कोरोना वायरस पाया गया है इसलिए आप सभी से हाथ जोड़कर बिनती है चिकन न खाऐं।

 


वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की ओर से जारी एडवाइजरी जानकारी में अब तक ऐसा कहीं नहीं कहा गया है कि ब्रायलर मुर्गी में कोरोना वायरस पाया गया है

सरकार ने इस वायरल मैसेज पर जवाब दिया

 भारत सरकार के पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि  किसी भी मनगढ़ंत सूचनाओं पर ध्यान ना  दें  क्योंकि पोल्ट्री उत्पादों का कोरोना वायरस से कोई भी संबंध नहीं है.यह चिकन पूरी तरह सुरक्षित हैं. लोग निश्चिंत होकर पोयल्ट्री चिकन का उपयोग कर सकते है.


हालांकि, डब्ल्यूएचओ ने अब तक ऐसा नहीं कहा है कि ब्रायलर मुर्गी में कोरोना वायरस पाया गया है या नहीं.who की वेबसाइट  के अनुसार अब तक यह पता नहीं चल सका है कि कोरोना वायरस किस जानवर से आया है. वायरल हो रही तस्वीरें इंटरनेट से ली गई हैं.पड़ताल में यह साफ हुआ कि वायरल दावा भ्रामक है, क्योंकि अब तक WHO या किसी अन्य प्रतिष्ठित संस्थान ने इस बात की पुष्टि नहीं की है कि बॉयलर मुर्गी में कोरोना वायरस पाया गया है.एक वायरल मैसेज में दावा किया गया था कि बॉयलर  मुर्गियों में कोरोना वायरस पाया गया था,घातक वाइरस के आसपास गलत जानकारी का नवनीतम टुकड़ा है.

जब हमने शिवजी नगर के इस्तियाक खान जो खुद एक दुकानदार है.उनसे बात कि तो उन्होंने  कहा की  यह गलत मैसेज है जो किसी ने वायरल कि है और इस कि  शिकायत हमारी यूनियन विधर्भ पोल्ट्री फार्मर्स अस्सोसिएशन नागपुर साइबर पुलिस को दी  है.और इस्तियाक खान ने लोगो से अपील कर रहे है कि अफ्वाओ पर ध्यान  ना दे.अब भारत सरकार ने भी कह दिया है के यह अफवा है.


गोवंडी के अनीस पोल्ट्री के मालिक कलीम शैख़ जो चिकन सप्लायर है उन्होंने माना के यह वायरल मैसेज से हमारे कारोबार में बहुत फरक पड़ा है.लेकिन जब हमने  कुछ आम लोगो से  बात कि तो उन्होंने कहा के इस मैसेज से गरीब लोगो को फ़ायदा हुआ है पहले ये ही चिकन हमे 180 रुपया किलो मिलता था जो अब कही पर 70  रुपया किलो कही 80  रुपया किलो   मिल रहा है. 


Rizwan

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?