उत्तर प्रदेश में सरकारी अस्पतालो की उपेक्षा बन्द करे सरकार: फरीद अहमद गाजी

By: Khabre Aaj Bhi
Sep 11, 2021
213

 By.KhanAhmadJawaid

 गाजीपुर : उत्तर प्रदेश सरकारी अस्पतालों की परीक्षा बंद करने के संबंध में यूपी कांग्रेस पीसीसी सदस्य  एवं उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक कांग्रेस के उपाध्यक्ष फरीद अहमद गाजी ने अपने पदयात्रा के ५० वें दिन  गनधुतालुका के धुसका में ग्रामीणों से चर्चा में कही। लोगों ने हस्ताक्षर कर समर्थन किया। तथा  सरकार के रवैए की निन्दा की।

 फरीद गाजी ने कहां कि कांग्रेस ने दैश, प्र्रदेश में सरकारी अस्पतालो को बनाकर जनता को स्वास्थ्य लाभ उपलब्ध कराने की कोशिशें की  लेकिन उत्तर प्रदेश में तीन दशकों से बनने वालीं सरकारों ने अस्पतालो को खंडहर में तब्दील कर दिया विभाग के लोग खुद विकसित हुए लेकिन अस्पतालो की बदहाली नही रुकी। । करोड़ों रुपए खर्च होने के बाद भी सरकारी अस्पतालो की उपयोगिता दयनीय है । फरीद अहमद गाजी ने २४ जुलाई कुतुबपुर बारा से आरम्भ पदयात्रा में अब तक २०  स्वास्थ्य केन्द्रों को बदहाल हालत में देख दुखी होते हुए सरकारी विभाग को जिम्मेदार ठहराया ।

 अब तक  बारा,भदौरा , गहमर, करहिया , उसिया, खजूरी ,अमौरा, देवल, बरेजी, सायर, मनियां,रकसहा, ताजपुर कुर्रा,देवैथा तियरी,रोहुडा, आदि स्वास्थ्य केन्द्रों का हाल दयनीय है ! इसी प्रकार अभईपुर पीएचसी पर पहुंच पदयात्रा का ग्रामीणों का साथ।  जनता और मीडिया के माध्यम से इस बदहाली को सरकार तक पहुंचाने की  जिसमें जनता का समर्थन है! कोशिशें जारी हैं और ये आन्दोलन पदयात्रा भी जारी है! जो अनिश्चितकालीन चलेगा । अबतक ५३ गांवों की यात्रा करचुके है इस अवसर पर पुष्पेन्द्र सिंह, शिवकांत दूबे,मुरारी सिंह,सतीश चन्द्र तिवारी, धनश्याम पांडे ,प्रमोद आदि मौजूद थे।


Khabre Aaj Bhi

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?