विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर विचार गोष्ठी का आयोजन

By: Khabre Aaj Bhi
Jun 06, 2021
168

आज पूरी तबाही का मुख्य कारण पर्यावरण से छेड़छाड़ : राजाराम जयसवाल 

 

गाजीपुर : अली अहमद एजुकेशनल एंड वेलफेयर सोसाइटी गाजीपुर द्वारा शम्स मॉडल स्कूल मुर्की खुर्द मोहम्मदाबाद गाज़ीपुर के प्रांगण में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया । 


 इस अवसर पर मुख्य अतिथि राजाराम जयसवाल मुख्य संपादक खबरें आज भी  ने कहा कि आज पूरी दुनिया पर्यावरण से छेड़छाड़ करने के कारण परेशान है। जिस तरह उसने सरकारी कर्मचारियों को मिलाकर विकास के नाम पर तबाह हो बर्बाद किया गया है। आज उसका नतीजा है। कि बीमारी की शक्ल में हर घर में फैल चुका है। क्या कभी हमने सोचा है। पूरी दुनिया एक दूसरे को मारने के लिए जिस तरह से रॉकेट मिसाइल का प्रशिक्षण कर रहा हैं । कोई राष्ट्र इसके विरुद्ध बोलने के लिए तैयार नहीं होता है।


आज जो पूरी दुनिया भर में इंसान को मारने के लिए आधुनिक हथियार के परीक्षण होते हैं ।इस पर कोई चर्चा नहीं किस तेजी से विकास के नाम पर जितने पेड़ काटे जाते हैं। आंकड़े में बहुत अधिक संख्या होती है। लेकिन जीवित कितने पेड़ होते हैं। इसकी कोई संख्या किसी के पास नहीं है । 


पर्यावरण कार्यक्रम के अवसर पर आये विशिष्ट अतिथि मुन्ना यादव प्रधानाचार्य सूर्य बली इंटर कॉलेज ने कहा कि विकास के नाम पर पेड़ों का कटना हम अपनी मौत को खुद बुलाते हैं। तेजी के साथ हमारे अंदर गिरावट आई है। उसका फल रूप है। सरकार के अंदर भी नैतिकता नहीं है। मान्यता प्राप्त स्कूल के अध्यापक जो पूरे भारत शिक्षा के बुनियाद को संभाल कर पूरी दुनिया में भारत का नाम रोशन कर रहे हैं। आज केंद्रीय और राज्य सरकार का इनके प्रति किसी प्रकार का कोई सहायता नहीं है।यह अध्यापक 1 साल से घरों में बैठे पड़े हैं।


इस अवसर पर मशहूर शायर अहकम गाजीपुरी और परचम मोहम्मददाबादी अपनी कविता के माध्यम से पर्यावरण बचाने के लिए काफी उम्दा संदेश दिया । इस अवसर पर मुख्य रूप से नाजिम रजा, मोहम्मद शौकत खान ,मोहम्मद इजहार खान , अदनान रजा, इस्लामुद्दीन खान,ललिता यादव ,विनोद कुमार ,संजू पासवान,योगेंद्र कुमार , रिंकी यादव ,अफसा खा,साबुद्दीन खान, गोविंद तिवारी ,नूरउल हक खान मुख्य रूप से उपस्थित थे। विचार गोष्ठी की अध्यक्षता प्रधानाचार्य राजदा खातून और संचालन जय प्रकाश प्रजापति ने किया।


Khabre Aaj Bhi

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?