मानखुर्द पीएमजीपी मे १लाख का गुटका पुलिस ने किया जप्त एक गिरफ्तार

By: rajaram
Oct 29, 2020
266


मुंबई : मानखुर्द पुलिस थाने की हद में बड़े पैमाने पर चल रहा  गुटखा का अवैध कारोबार पर खबरे आज भी समाचार पत्र पत्रकारों ने लगाम लगाई दिया २८ अक्टूबर २० शाम करीब ३ बजे बड़े पैमाने पर म्हाडा के बिल्डिंग न .९१अ में मोहिते पाटिल विधायल मे अवैध तरीके से कई महीने से काम कर रहे अवैध गुटका माफिया मारूफ सहीद खान का धंधे का पर्दा फास्ट कर दिया है ।

सभी मामले की सूचना मानखुर्द पुलिस के अधिकारियों को देने के बाद मानखुर्द पुलिस के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक प्रकाश चौगले के निर्देश पर उप निरीक्षक जधावर ने कारीब १ लाख रुपये का गुटका जब्त करके मामला क्रमांक ४२०/२० कलाम १८८,२७०,२२७,३२७ के तहत दर्ज करके मानखुर्द म्हाडा में रहने वाले मारूफ सहीद खान उम्र २७ साल को मानखुर्द पुलिस के अधिकारियो ने गिरफ्तार करके कुर्ला न्यायालय में पेश किया सुनवाई के बाद जज ने मारूफ को पुलिस कस्टडी दे दिया। मामले के जाँच पुलिस अधिकारी कर रहे है ।


लेकिन देखना है जिसको पुलिस ने गिरफ्तार किया वह एक गुटका बेचने वाला प्यादा है जिस माफिया का धंधा संभालता है उस माफिया को पुलिस  के अधिकारियो ने नाम नही डाला है इस अभी मामले को लेकर उप निरीक्षक जाधावर को मोबाईल पर संपर्क करने पर इस मामले में कहा कि खाली एक ही का नाम दिया था। 

जब कि करवाई करते हुये खबरे आज भी के संपादक राजाराम जैसवाल ने बार बार संतोष व मारूफ का नाम जाधवार को बताया था। उसके बाद भी पुलिस अधिकारियो ने संतोष का नाम  मामले मे नहीं डाला ? इससे मालूम होता है कि मानखुर्द पुलिस अधिकारी गुटका माफिया पर कितने मेहरबान है । जिसके कारण गुटका का कारोबार फल फूल रहा है ।


आप को बता दे कि गुटका बेचने वाले पर प्रशासन लगाम लगा रही है। उसके बाउजूद अवैध गुटका माफिया बड़े पैमाने पर पुलिस व प्रशासन को खुले आम चैलेंज देकर हर दिन करोड़ो को अवैध कारोबार कर रहे । इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है किस कदर अवैध गुटखा का करोबार  करने वाले के दिल मे कानून का डर तनिक भी नही है क्यो हो कानून के रखवाले का हाथ इन माफिया को सर पर जो होता है । इस लिए बिंदास गुटका माफिया धंधे करते है ।

आब देखना है पुलिस अधिकारी गुटका बेचने वाले से लेकर माल सप्लाई करने वाले तक पहुचती है कि बीच मे ही दम तोड़ देती है ?


rajaram

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?