भारतीय मुस्लिम बुद्धिजीवियों का ईद की नमाज शुकराना घर में पढ़ने की अपील

By: Muzammil Khan
May 21, 2020
248


गाज़ीपुर : (जावेद बिन अली )कोविड-19 की महामारी पूरी दुनिया में फैली हुई है लेकिन विगत एक हफ्ते के अंदर भरत मिनिस्टर जी से फैल रहा है और अब तो लगता है शहर मुंबई अहमदाबाद सूरत आगरा और दिल्ली से होता हुआ भारत के तमाम गांव में फैल जाएगा ऐसी सूरत में भारत के बुद्धिजीवियों से ईद उल फितर की नमाज के सिलसिले में उनके विचार को जानने का प्रयास किया है। पूर्वांचल के प्रसिद्ध मुफ्ती ए बनारस इमाम एवं खतीब शाही मस्जिद ज्ञानवापी वाराणसी मुफ्ती अब्दुल बातिन नोमानी ने साफ लफ्जो मे कहा कोविड-19 की महामारी पूरी दुनिया में फैली हुई है। और इस महामारी को देखते हुए पूरी दुनिया के मस्जिदों में नमाज फर्ज मात्र 5 लोग पढ़ रहे हैं। तराबी की नमाज भी लोगों ने घर में पड़ा है और अब विगत कुछ दिनों से मर्ज में काफी बढ़ोतरी हो रही है। ऐसी सूरत में मुसलमानों को अपने घरों में जैसे दूसरी नमाज पढ़ते आ रहे हैं। ईद की नमाज शुकराना घर पर अदा करें। वतन अजीज के हालात को देखते हुए मुसलमानों पर गोदी मीडिया का इल्जाम ना लगे ,हमें बचनी चाहिए।

इसी बात को लेकर छत्तीसगढ़ के पूर्व डीजेपी मोहम्मद वजीर अंसारी ने साफ लफ्जों में कहा भारत में 30 जनवरी को कोरोनावायरस से पीड़ित व्यक्ति का जब पहचान कर ली गई थी। 24 फरवरी को अहमदाबाद में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के साथ नमस्ते कार्यक्रम में हजारों की संख्या में विदेशी अतिथि गण आए थे। किसी ने कोई सवाल नहीं पूछा। लेकिन वही विदेश से कुछ तबलीगी जमात के लोग अपनी वार्षिक कार्यक्रम में आए थे। और प्रधानमंत्री ने लॉक डॉन की घोषणा कर देने के बाद, गोदी मीडिया ने किस तरह से पूरे भारत के हर गांव में यह फैला दिया गया। विदेश से मुसलमान कोरोनावायरस लेकर के आए थे। इसका दाग आज तक नहीं मीटा है।  13 मार्च को भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कोविड-19 से घबराने की जरूरत नहीं है। अब 31 मई तक लॉक डाउन की सीमा बढ़ा दी गई है। इस दरमियान में मुसलमानों को विशेष तौर पर होशियार होने की जरूरत है। क्योंकि सरकार द्वारा छूट इसीलिए दी जा रही है अपनी नाकामी छुपाने के लिए और मुसलमान इस चंगुल में फंस जाए। जब फर्ज नमाज मस्जिद में अजान के बाद पूरी दुनिया के लोग घरों में पड़ा है भारतीय मुसलमान भी तमाम अपनी फर्ज नमाज घर में पड़ा है। तो फिर क्यों वाजिब नवाज के लिए बीजेपी आईटी सेल द्वारा वीडियो बनाकर वायरल किया जा रहा है। वह ऐसे लोग हैं। जिनके घरों में गणेश की पूजा भी होती है। वह व्यक्ति ईद की नमाज के लिए सरकार से निवेदन कर रहा है। कुछ गोदी मीडिया की डिबेट में बैठने वाले वह मुल्ला ईद की नमाज के लिए अपील कर रहे हैं। जिनको एंकर किस तरह बेइज्जत करके जूता मारता है। उन की आत्मा बर्दाश्त कर सकती है।

कोविड-19 के महामारी में मुसलमान और सिख भाइयों ने दिल खोलकर आज तक मदद करते चले आ रहे हैं। इस महामारी में दिल खोलकर और आगे बढ़े। नया कपड़ा पहनना फर्ज नहीं है। लेकिन इस महामारी में मदद पहुंचाना फर्ज और सुन्नत जरूर है। बाजार से बिल्कुल परहेज रखें और मोहम्मद स0ल0 के उस हदीस को जिंदा करें जो उन्होंने बाजार के लिए कहा था।


Muzammil Khan

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?