मुंबई में दी गई मोहम्मद जहां को श्रंद्धाजलि

By: Rizwan
Feb 08, 2020
152

रिज़वान खान 

गोवंडी के शिवाजीनगर  में दी गयी मोहम्मद जहां को श्रंद्धाजलि  शाहीन बाग में ठंड से हुई थी मौत  चार महीने के मोहम्मद जहां को उसकी मां रोज शाहीन बाग़  के प्रदर्शन में ले जाती थी। वहां प्रदर्शनकारी उसे अपनी गोद में लेकर खिलाते थे और अक्सर उसके गालों पर तिरंगे का चित्र बना दिया करते थे। लेकिन मोहम्मद अब कभी शाहीन बाग में नज़र नहीं आएगा। पिछले हफ्ते ठंड लगने के कारण उसकी मौत हो गई।शाहीन बाग में खुले में प्रदर्शन के दौरान चार महीने के इस बच्चे को ठंड लग गई थी जिससे उसे भयंकर जुकाम और सीने में जकड़न हो गई थी। लेकिन उसकी मां अब भी प्रदर्शन में हिस्सा लेने के फैसले पर अटल है।उसी को देकते हुए आज मुंबई के गोवंडी में बने शहीद स्मारक पर संस्थाओ ने मिलकर दिया मोहम्मद जहां को श्रदांजली और लोगो से अपील करती हुई सेफ एजुकेशनल वेलफेयर एसोसिएशन (सेवा) संस्था की सदस्य खान शमीम बनो  ने  लोग से अपील की आप लोग भी अपने अपने हिसाब से एनआरसी और सीएए का विरोद करे और गोवंडी की जनता बी दिल्ली के शाहीन बाग़ की महिलाओ के साथ खड़ी रहे।

उत्तर प्रदेश के बरेली का है यह परिवार

मोहम्मद जहां के माता-पिता नाजिया और आरिफ बाटला हाउस इलाके में प्लास्टिक और पुराने कपड़े से बनी छोटी सी झुग्गी में रहते हैं। उनके दो और बच्चे और पांच साल की बेटी और एक साल का बेटा है उत्तर प्रदेश के बरेली के रहने वाले दंपत्ति मुश्किल से अपना रोज़मर्रा का खर्च पूरा कर पाते हैं। आरिफ कढ़ाई का काम करते हैं और - रिक्शा भी चलाते हैं। उनकी पत्नी नाजिया कढ़ाई के काम में उनकी मदद करती हैं।
आरिफ ने कहा, 'कढ़ाई के काम के अलावा, -रिक्शा चलाने के बावजूद मैं पिछले महीने पर्याप्त नहीं कमा सका। अब मेरे बच्चे का इंतकाल हो गया। हमने सब कुछ खो दिया।' उन्होंने मोहम्मद की एक तस्वीर दिखाई, जिसमें उसे एक ऊनी कैप पहनाई गई है जिसपर लिखा है, 'आई लव माई इंडिया।


'नींद में हो गई बच्चे की मौत

दुख से बेहाल नाज़िया ने बताया कि उनके नन्हे बेटे की मौत 30 जनवरी की रात को प्रदर्शन से लौटने के बाद नींद में ही हो गई। उन्होंने बताया, 'मैं शाहीन बाग से देर रात 1 बजे आई थी। उसे और अन्य बच्चों को सुलाने के बाद मैं भी सो गई। सुबह मैंने देखा कि वह कोई हरकत नहीं कर रहा था। उसका इंतकाल सोते हुए हो गया।'


Rizwan

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?