सेवराई कोतवाल और तहसीलदार के बीच ओवर लोड वाहन की वसूली को लेकर नोकझोंक बना चर्चा का विषय

By: Khabre Aaj Bhi
Dec 01, 2019
62

डीएम और एसपी ने दिया  मामले की छानबीन का आदेश 

सेवराई:  एक तरफ जहां प्रदेश में ओभर लोड वाहनों के संचालन पर पूर्ण तरीके से रोक लगाने के लिए अधिकारियों के कमर कस जा रहे है वही बालू के इस खेल में ओभरलोड वाहनों की बहती गंगा में हाथ धोने के चक्कर मे बीच सड़क अपनी मान मर्यादा और पद की गरिमा को दरकिनार कर प्रदेश सरकार के दो जिम्मेवार अधिकारी एक दूसरे से नोक झोक कर बैठे और सड़क किनारे खड़े लोग बड़ी चाव से इनकी रामलीला देख मजे ले रहे थे। मामला सेवराई तहसील के तहसीलदार अजित सिंह और गहमर प्रभारी निरीक्षक राजीव सिंह का है। जानकारी के अनुसार खनन और ओवरलोड वाहनों पर रोक लगाने के लिए चल रहे अभियान के तहत शुक्रवार की रात माँ कामाख्या धाम गेट के पास गहमर कोतवाली और तहसीलदार के बीच नोकझोंक हो गई जिसको लेकर लोगों में काफी चर्चा का विषय बना रहा।

सेवराई तहसीलदार अजीत कुमार सिंह का कहना है कि कोतवाल ने उनके ऊपर हाथ उठाया है जब की इस मामले में कोतवाल राजीव कुमार सिंह का कहना है कि हाथ उठाने की बात बेबुनियाद है। तहसीलदार द्वारा वाहन चेकिंग के दौरान जाम लग गया था। जिसकी वजह से वह मौके पर पहुंचे थे । वही मामला जिले के उच्चाधिकारियों तक पहुंच गया है जिसमें डीएम और एसपी अपने स्तर से मामले की छानबीन कर रहे हैं। दो जिम्मेवार अधिकारियों का यह कृत्य  लोगो मे चर्चा का विषय बना हुआ है। ज्ञात हो कि तहसीलदार अजीत सिंह अपने दो अन्य लोगों के साथ ओवरलोड वाहनों की चेकिंग कर रहे थे इसी दौरान कोतवाली राजीव सिंह को किसी लोगो ने सूचना दी कि कुछ लोग अवैध तरीके से वाहनो से वसूली कर रहे हैं। सूचना मिलते ही प्रभारी निरीक्षक राजीव कुमार सिंह मौके पर पहुंचे । कोतवाल और तहसीलदार के बीच किसी बात को लेकर नोकझोंक हो गई । दोनों लोग एक दूसरे के ऊपर आरोप लगा रहे है। सच्चाई चाहे जो भी हो लेकिन मामला अब जिले के बड़े अधिकारियों के पास भी पहुच गया है मामले पर डीएम और एसपी के पास मामला पहुंच चुका है। जिले के अधिकारी इस मामले का किस तरीक़े से पटाक्षेप करते है लोगो को इसी बात का इंतजार है।


Khabre Aaj Bhi

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?