मोहम्मद इमरान की अध्यक्षता में हुआ राष्ट्रीय एकता सम्मेलन पिछले 62 सालों से हो रहा है यह प्रोग्राम

By: Khabre Aaj Bhi
Nov 17, 2019
628


 रिपोर्टर : अफसर अली

जजौनपुर:  मछली शहर नगर पंचायत के खानजादा मोहल्ले में स्थित जामा मस्जिद के मैदान में राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया गया जिसकी बुनियाद सीरत कमेटी के नाम से 1957 में रखी गई थी यह प्रोग्राम ईद मिलादुन्नबी के जलसे से 1 दिन पहले होता है जिस की सदारत इन लोगों ने की पहले सदर हुए हाफिज अब्दुल रहीम व मोहम्मद अली, मोहम्मद अहमद अंसारी, अजीज अहमद खान, कमाल जाफरी, फिरोज खान, इश्तियाक खान, शमशुल इस्लाम व मुस्तफीज खान ने किया।

मछली शहर सीरत कमेटी का बुनियादी मकसद आपसी भाईचारा को बनाए रखना है गंगा जमुनी तहजीब का जीता जागता मिसाल है इस प्रोग्राम छोटे पैमाने से प्रारंभ किया गया आज यह बहुत बड़े पैमाने पर मनाया जाता है जिसमें सारे समुदाय के लोग भारी संख्या उपस्थित होते हैं ।

मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे बीपी सरोज सांसद जगदीश सोनकर विधायक हर साल की तरह इस साल भी राष्ट्रीय एकता सम्मेलन मैं अपने अपने विचार रखे दिनांक 16 नवंबर 2019 दिन शनिवार समय 12:00 बजे दिन जलसा गाह सीरत कमेटी जामा मस्जिद मैदान मछली शहर में शुरू हुआ। राष्ट्रीय एकता सम्मेलन जिसका शीर्षक था इस्लाम के दर्पण में राष्ट्रीय एकता  रखा गया था जिसमें सभी वक्ताओं ने अपनी अपनी बातों को रखा सांसद जी ने भी अपनी बातों को व्यक्त किया कहा की मै मैं यहां नहीं था मैं लखनऊ में था और लखनऊ से सीधे इस प्रोग्राम के लिए आया हूं उन्होंने कहा मैं सारे समाज का सांसद हूं किसी एक जाति या एक धर्म के मानने वालों का सांसद नहीं बल्कि में सर्व समाज का सांसद हूं जो समस्या हो मुझसे अपनी बातों को कह सकता है मैं और मेरी सरकार उसका भरपूर सहयोग करेगी विधायक जी ने भी कहा मछली शहर में गंगा जमुनी तहजीब से भरपूर प्रोग्राम बहुत ही अच्छा रहा जब कभी बुलाया जाएगा हम लोग हमेशा पहुंचेंगे इस प्रोग्राम में शिरकत करता सीरत कमेटी सदर मुस्तफिज खान अध्यक्षता जनाब मोहम्मद इमरान तिलावत हाफिज कारी मोहम्मद यूनुस साहब ने किया ।

संचालन हाजी एजाज ने किया इश्तियाक अहमद खान जनाब साजिद इकबाल रिजवान अहमद खान फहमी रिजवी, मुख्य अतिथि मान्यवर बीपी सरोज भाजपा सांसद मछली शहर व जगदीश सोनकर विधायक मछली शहर अपनी बातों को रखा पति नगर पंचायत अध्यक्ष महमूद आलम, मौलाना वसीम शेरवानी साहब मौलाना अबुल कलाम अजवद कासमी आदि मौजूद रहे।


Khabre Aaj Bhi

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?