स्मशान मे रात को महिलाए करती है जलती चिता की परिक्रमा

By: Khabre Aaj Bhi
Nov 09, 2019
89


चेंबूर; मुंबई के चेंबूर इलाके में बनाया गया स्वर्गीय हशु आडवाणी चराई स्मशान हिन्दू भूमि में एकादशी के रात को स्मशान भूमि में बड़े पौमने पर श्रद्धालुओं का तांता लग रहता है। इस स्मशान भूमि में माँ काली और काल भैयारो का पूजा अर्चना करने लोग बड़ी संख्या आते है। माना जाता है कि आज दिन स्मशान भूमि में आकर 5 दीप जला कर चिता का परिक्रमा करने बाद पित दोष मिटजता है और सभी मनोकामना पूरी होती है इस लिए आज रात के दिन बड़े पैमाने पर लोग इस स्मशान भूमि में आकर मोमबत्ती जला कर  शव की परिक्रमा करते है। कहते है की हिन्दू  मे स्मशान मे महिलाए को जाना माना है लेकिन एकादशी के दिन चेंबूर के स्मशान मे महिलाए को जलती शव की परिक्रमा करती नजर आई ।  स्मशान मंदिर के पुजारी ने खबरे आज भी संवदाता से बात कर कहा है की आज के दिन चिता को छुना शुभ माना जाता है ।  जिसमे महिला, बच्चो, पुरूष  सभी लोग एक साथ परिक्रमा करते है। इस स्मशान भूमि में माँ काली और काल भैरव की पूजा करते है ।


जिसमे काल भैरव को आने वाले श्रद्धालुओं अपने साथ शराब लेकर आते है । क्योंकि काल भैरव को शराब व सिगरेट का भोग लगाया जाता है और प्रसाद को रूप में शराब श्रद्धलुओं को दिया जाता है  इस सभी कार्यक़म के आयोजक रमेश लोहाना करते है । रमेश लोहाना एक चेम्बूर के भवन निर्माता के रूप में जाने जाते है । रमेश लोहाना के बारे में जनता ने बताया कि रमेश लोहाना भवन निर्माता और एक सबसे बड़े समाज सेवक के रूप में भी जाने जाते है  लोहाना कोई भी समाज काम मे आगे रहते है । जिसके चलते कई साल से यह कार्यक़म करते रहते है।


Khabre Aaj Bhi

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?