डाः बुद्ध नारायण उपाध्याय को इंटरनेशनल नेचुरोपैथी आर्गेनाइजेशन पूर्वांचल के आडिनेटर बनाये जाने पर क्षेत्र में हर्षोल्लास

By: Izhar
Nov 08, 2019
36

गाजीपुर:गहमर स्थानीय गाँव निवासी डॉ बुद्ध नारायण उपाध्याय को इंटरनेशनल नेचुरोपैथी आर्गनाइजेशन का पूर्वांचल के कोऑर्डिनेटर बनाने जाने पर क्षेत्र में हर्ष व्याप्त है।इंटरनेशनल नेचुरोपैथी ऑर्गनाइजेशन  के प्रदेश संयोजक डॉ रविंद्र कुमार राणा  की संस्तुति पर आई.एन. ओ. के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉक्टर अनंत बिरादर एवं डॉ.विनोद कश्यप ने  एशिया महाद्वीप के सबसे बड़े गहमर गांव के निवासी एवं योग प्राकृतिक चिकित्सा एक्यूप्रेशर डॉ बुद्ध नारायण उपाध्याय जो कि दो दशकों से समाज की सेवा में समर्पित हो कर पूरे पूर्वांचल में योग प्राकृतिक चिकित्सा के प्रचार प्रसार का कुशल निर्देशन कर रहे है उनको पूर्वांचल समन्वयक(कार्डिनेटर) आई. एन.ओ. नेचुरोपैथी द्वारा नियुक्त किया गया है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र  मोदी के फिट इंडिया हिट इंडिया का संयोजन कर समाज में नए रोजगार नए स्वास्थ्य का जन जागरण करने का संकल्प इंटरनेशनल नेचरोपैथी ऑर्गेनाइजेशन ने लिया है l आयुष मंत्रालय का यह सपना हमारी आई एन ओ टीम के  माध्यम से सफल होगा l यह नियुक्ति 18 नवंबर प्राकृतिक चिकित्सा दिवस 2019 के आयोजन पर जन-जन तक पहुंचाने हेतु की गई है।

 विदित है कि 12 से 18 नवंबर 2019 की अवधि में नेचुरोपैथी के उपलक्ष में नेचुरोपैथी चिकित्सा जन जागरण  अभियान चलाया जाएगा। इस मौके पर चिकित्सा शिविर, नेचुरोपैथी संगोष्ठी, जन- जागरण पदयात्रा, चित्रकला प्रतियोगिता, कौन बनेगा स्वास्थ्य रक्षक, प्रतियोगिता आदि विशेष विविध कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। इस संबंध में डॉ बुद्ध नारायण उपाध्याय ने बताया कि पदाधिकारियों द्वारा दी गयी इस जिम्मेवारी का मैं निष्ठा पूर्वक पालन करूँगा। मेरे कार्य क्षेत्र में गाजीपुर, चंदौली ,वाराणसी ,सोनभद्र, मिर्जापुर, संत रविदास नगर, गोरखपुर, देवरिया, मऊ, आजमगढ़ ,बलिया इत्यादि जिले शामिल है l उपरोक्त सभी जिलों में जिला कोऑर्डिनेटर नियुक्त कर दिए गए हैं तथा प्रत्येक कॉर्डिनेटर 20 20 के टोली में अपने अपने जिले में तैयार हो चुके हैं जो इस भव्य आयोजन का आधार है l प्राकृतिक चिकित्सा दिवस 18 नवंबर 2019 को संपूर्ण भारत देश में आई. एन. ओ. द्वारा मनाया जाएगा।।


Izhar

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?