जिलाधिकारी ने पीस कमेटी की मीटिंग में कहा कानून-व्यवस्था बिगाड़ने वालों के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई

By: Khabre Aaj Bhi
Nov 02, 2019
964


 रिपोर्ट :अफसर अली

उत्तर प्रदेश:  जनपद मुजफ्फरनगर में जिला पंचायत सभागार में शांति समिति की बैठक आयोजित की गई जिसकी अध्यक्षता डीएम सेल्वा कुमारी व एसएसपी अभिषेक यादव ने की बैठक में उन्होंने कहां आने वाले बाबरी मस्जिद एवं राम जन्मभूमि से सम्बन्धित अदालत के फैसले को देखते हुए जनपद में शांति एवं सौहार्दपुर्ण वातावरण को बनाये रखना हम सबकी जिम्मेदारी है इस के लिए पूरे जिले के धर्मगुरुओं सामाजिक कार्यकर्ताओं वह सम्मानित व्यक्तियों के साथ कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक कर चर्चा की बैठक में जिलाधिकारी ने कहां  हमारा देश गंगा जमुनी तहजीब का उत्कृष्ट उदाहरण रहा है यह सभी धर्मो के लोग मिल जुल कर रहते आ रहे है। सभी लोग से अपेक्षा है 17 नवंबर से पहले कभी भी अदालत का फैसला आ सकता है उसका सम्मान हम सभी को करना है कोई अप्रिय घटना न हो इसका पूरा ध्यान रखना हम सब की जिम्मेदारी है

जिलाधिकारी ने कहा कि राम मन्दिर से सम्बन्धित सुनवाई पूर्ण हो गयी है इसका फैसला अदालत कभी भी सुना सकता है अदालत का फैसला जो भी हो हमे अपने जनपद का भाईचारा बनाये रखना है उन्होंने सभी धर्मगुरुओं से अपील की कि किसी भी प्रकार पर दुष्प्रचार पर ध्यान न दे और आपसी भाईचारा एवं कानून व्यवस्था बनाए रखना हम सब जिम्मेदारी है


डीएम और एसएसपी ने कहा कि सोशल मीडिया पर विशेष निगरानी रखी जा रही है सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी उन्होंने कहा कि किसी भी अप्रिय घटना के लिए पुलिस प्रशासन पूर्ण रुप से सतर्क है  उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया पर अगर कोई झूठी भड़काऊ पोस्ट सोशल मीडिया पर डालता है तो उसकी सूचना तत्काल उसकी सूचना पुलिस से करें सभी धर्म गुरुओ ने जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक को आश्वस्त करते हुए कहा कि आने वाले बाबरी मस्जिद राम जन्मभूमि से सम्बन्धित अदालत का जो भी फैसला होगा उसे हम स्वीकार करेंगे जनपद का माहौल किसी भी दशा में बिगड़ने नही दिया जायेगा

इस अवसर पर उपस्थित एडीएम प्रसासन अमित कुमार, एडीएम फाइनेंस आलोक कुमार, एसपी सिटी सतपाल अंतिल, एसडीएम कुलदीप मीणा,सीओ नई मंडी हरीश भदौरिया, सीओ सिटी दीक्षा शर्मा, एलआईयू इंस्पेक्टर धर्मेन्द्र कुमार आदि मौजूद रहे


Khabre Aaj Bhi

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?