कांग्रेस उम्मीदवार नसीम खान की पदयात्रा में जुटे हजारों लोग

By: Khabre Aaj Bhi
Oct 09, 2019
36

चांदीवली में अबकी बार1लाख पार का नारा:  लोगों ने नसीम का तहे दिल से किया स्वागतभारी मतों से जिताने की अपील.




मुंबई: चांदीवली से कांग्रेस व संयुक्त आघाड़ी समर्थित उम्मीदवार नसीम खान की पदयात्रा में बुधवार को हजारों लोगों की भीड़ जुटी। यह पदयात्रा सुबह 9 बजे  कमानी स्थित फीनिक्स मॉल से शुरू हुई. बाद में यह पदयात्रा सुन्दर बाग़ रिक्शा स्टैंड से होते हुएमिनर्वा ज्वेलर्स,संजय नगर पुलिस चौकीमुकुंद कंपनीगैबनशाह स्कूल,हिमालया सोसायटीमिलिंद नगर से गुजरते हुए असल्फा मेट्रो स्टेशन के पास  खन्ना अपार्टमेंट पर समाप्त हुई. इस दौरान नसीम खान ने डॉ.भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा मार्ग से गुजरते हुए डॉ. आंबेडकर का आशीर्वाद भी लिया।उन्होंने कहा कि युति सरकार ने सिर्फ डॉ. आंबेडकर की स्मारक का भूमिपूजन किया हैलेकिन उसे पूरा आघाड़ी की सरकार करेगी।

 

चांदीवली के विकास पुरुष

 



पदयात्रा के दौरान नसीम खान का स्वागत करने के लिए सड़क के दोनों किनारों लोगों की भारी भीड़ जमा थी,.ढोल नगाड़ों के साथ लोगों ने अबकी बार एक लाख से ज्यादा मतों से नसीम खान को जिताने के नारे लगाए। इस दौरान  स्थानीय लोगों और संयुक्त आघाड़ी के नेताओं ने फूलों का हार पहना कर नसीम खान का जोरदार स्वागत किया। लोगों ने कहा कि चांदीवली के लिए नसीम खान एक विकास पुरुष की तरह है. इस मौके पर नसीम ने कहा कि वे उन नेताओं में से नहीं हैं, जो सिर्फ चुनाव के वक़्त वोट मांगने के लिए जनता के बीच आते हैं. वे ऐसे नेता हैं, जो लोगों की समस्याओं को सुलझाने के लिए हमेशा मौजूद रहते हैं. उन्होंने कहा कि हम आयाराम और गयाराम की राजनीति नहीं करते हैं. ऐसे नेता सिर्फ सत्ता के लिए पार्टी बदलते हैं. ऐसे नेताओं को चुनाव हारने का डर  लगता है. मैंने पिछले 20 साल से लोगों की सेवा की है. इस बार भी मुझे विश्वास है कि लोग भारी बहुमत से चुनाव जीता कर मुझे विधानसभा भेजेंगे। उन्होंने कहा कि मेरे सामने चुनाव जीतने की चुनौती नहीं है. बल्कि चुनौती यह है कि इस बार लोगों ने मुझे 1 लाख से ज्यादा मतों से जिताने का प्रण लिया। 

 विकास की लड़ाई

 

नसीम खान ने कहा कि कांग्रेस की लड़ाई सिर्फ विकास की है.उन्होंने युति सरकार पर हमला करते हुए कहा कि कांग्रेस जुमलेबाजी में नहीं, बल्कि काम करने में विश्वास करती है। पिछले 5 साल में युति सरकार महंगाई, बेरोजगारी और आर्थिक मोर्चे पर पूरी तरह से फेल रही है. कामगार वर्गों का जीना मुश्किल हो गया है. उनके सामने भूखमरी की नौबत आ गई है. मुझे पूरा विश्वास है कि 21 अक्टूबर को जनता कांग्रेस के पक्ष में मतदान कर संयुक्त आघाड़ी के उम्मीदवारों को भारी मतों से विजय बनाएगी।  


Khabre Aaj Bhi

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?