हत्या का आरोप, पुलिस ने रामघाट से शव को लिया कब्जे में

By: Riyazul
Aug 12, 2019
13

जफराबाद (जौनपुर) क्षेत्र के लाडन पुर गांव निवासी वृद्ध की रविवार को अपनी रिश्तेदारी में गए संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। वृद्ध के भाई ने जहर देकर मारने का आरोप लगाया। जबकि परिजन इस घटना को  झूठा बताते हैं जिसकी सूचना पर जफराबाद पुलिस हरकत में आगयी। अंतिम संस्कार के लिए गए हुए वृद्ध के शव को घाट पर से कब्जे में ले लिया। पोस्टमार्टम की कार्रवाई, तथा घटना से संबंधित जांच पड़ताल की जा रही है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार उक्त गांव निवासी राजेंद्र प्रसाद 70 वर्ष, जिनको कोई संतान नहीं है। उन्होंने अपने साले मोतीलाल निवासी ओंचनी थाना मडियाहूं के पुत्र धर्मेंद्र कुमार को गोद लिया हुआ था। रविवार को दिन में दोपहर करीब 2:00 बजे साला मोतीलाल के दामाद सुभाष निवासी अतरौली थाना बक्सा के साथ, धर्मेंद्र के लिए शीतल गंज थाना मडियाहूं गांव में शादी हेतु लड़की देखने गए थे। रविवार को देर रात करीब 2:00 बजे राजेंद्र प्रसाद की अचानक तबीयत बिगड़ गई। रिश्तेदार आनन-फानन में उनको जिला मुख्यालय के एक निजी अस्पताल में लेकर पहुंचे। जहां डॉक्टर ने उनको मृत घोषित कर दिया। रात करीब 3:00 बजे शव लेकर रिश्तेदार लाडनपुर गांव पहुंचे। सोमवार को सुबह 8:00 बजे गांव वाले तथा रिश्तेदार उनके शव को लेकर अंतिम संस्कार के लिए रामघाट लेकर पहुंचे थे की। उधर राजेंद्र प्रसाद के भाई धर्मराज ने थाने पर पहुंचकर थानाध्यक्ष से भाई को जहर देकर हत्या करने का आरोप लगा दिया। सूचना पर जफराबाद थानाध्यक्ष ने तत्काल मय फोर्स 9:00 बजे के करीब रामघाट पहुंच गए। अंतिम संस्कार की तैयारी चल रही थी। उसके पहले ही थानाध्यक्ष मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए। राजेंद्र कुमार की पत्नी कर्मा देवी से पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि कि मेरे पति की नेचुरल मौत हुई है। उनकी मौत के पीछे लगाए गए आरोप निराधार हैं। थानाध्यक्ष से पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि संदेह  के आधार पर पोस्टमार्टम की कार्रवाई की जा रही है। पोस्टमार्टम के बाद आरोप में कितनी गंभीरता है पता चल जाएगा।


Riyazul

Reporter - Khabre Aaj Bhi

आगे से कैश संकट उत्पन्न न हो इसके लिए क्या आरबीआई को ठोस नीति बनानी चाहिए?